जम्मू और कश्मीर से सेक्शन 370 हटाने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह बौखलाया हुआ है और पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भारत के इस फैसले के खिलाफ अन्य देशों को भी करने में लगा है लेकिन पकिस्तान को इसमें कोई ख़ास कामयाबी नहीं मिली है। लेकिन अब पाकिस्तान और भी अधिक सदमे में हैं क्योकिं भारत के इस फैसले का समर्थन 2 मुस्लिम देशों ने भी किया है। दोनों ही देशों ने जम्मू और कश्मीर के फैसले को भारत और पाकिस्तान का आंतरिक मामला बताया है।

संयुक्त अरब अमीरात ने किया समर्थन

संयुक्त अरब अमीरात ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य दर्जा वाले अनुच्छेद को रद्द करने वाले इस फैसले को समर्थन किया। खबरों के मुताबिक, यूएई के भारत में राजदूत अहमद अल बन्ना ने कहा कि ये फैसला 2 देशों के बीच का अंदरूनी मामला है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि हम आशा करते हैं कि इलाके में सामाजिक न्याय और सुरक्षा बेहतर होगी और शांति भी बढ़ेगी।

मालदीव ने कहा, भारत का आंतरिक मामला

एक अन्य मुस्लिम बहुल देश मालदीव ने भी जम्मू एवं कश्मीर पर भारत के फैसले का समर्थन किया है। कश्मीर ने सेक्शन 370 हटाने के फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि हर देश को अपने कानूनों में जरूरत के मुताबिक बदलाव करने का अधिकार है। अनुच्छेद 370 को लेकर भारत सरकार द्वारा लिए गए निर्णय को एक आंतरिक मामला मानती है।

loading...

Related News