नई दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दौरान भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में चुनाव आयोग ने बंगाल में चुनाव प्रचार पर समय से एक दिन पहले ही रोक लगा दी। निर्वाचन आयोग के आदेश के अनुसार पश्चिम बंगाल में 19 मई को होने वाले मतदान के लिए गुरूवार की रात 10 बजे से चुनाव प्रचार पर रोक लग जाएगी। अब चुनाव आयोग के इस फैसले पर सवाल उठने लग गए है। कांग्रेस ने इसे 'लोकतंत्र के इतिहास का काला दिन' भी बताया।

कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने एक बयान में कहा कि लोकतंत्र इतिहास में आज काला दिन है। पश्चिम बंगाल पर चुनाव आयोग के आदेश में अनुच्छेद 14 और 21 के अंतर्गत जरूरी प्रक्रिया का अनुपालन नहीं हुआ है तथा आयोग ने सबको समान अवसर देने के संवैधानिक कर्तव्य का निर्वहन भी नहीं किया। यह संविधान के साथ किया अक्षम्य विश्वासघात है।


कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दावा किया कि पीएम मोदी और अमित शाह के खिलाफ चुनाव आयोग ने 11 शिकायतें की है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। भाजपा के द्वारा हिंसा की गई और अमित शाह द्वारा धमकाया गया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब मोदी जी को 16 मई को रैलियों की इजाजत दी गई और दूसरे सभी लोगों को प्रतिबंधित कर दिया गया। कभी एक स्वतंत्र संवैधानिक इकाई रही संस्था में शर्मनाक गिरावट है।

नवजोत सिंह सिद्धू ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, कहा कि...

सद्दाम हुसैन की तरह व्यवहार कर रही है दीदी: विवेक ओबरॉय

loading...

Related News