राजनीति से जुड़ी सटीक खबरों के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, यह खबर आपको कैसी लगी कमेंट करके हमें बताएं।

दोस्तों, आपको जानकारी के लिए बता दें कि लोकसभा चुनाव-2014 के बाद यूपी में हुए उपचुनावों में भाजपा को मिली करारी हार से हाईकमान चिंतित हो उठा है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह यूपी में सपा-बसपा गठबंधन को मात देने के लिए सपा और बसपा समर्थक जातियों में सेंधमारी करने के फिराक में हैं।

बताया रहा है कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व सपा-बसपा समर्थक जातियों में सेंधमारी करने के लिए एक फार्मूला तैयार कर रही है। दरअसल इस फार्मूले के तहत 50 फीसदी के खांचे में फिट बैठने वाले नेताओं को जगह मिलेगी, जबकि अन्य नेताओं की छुट्टी होगी।

बता दें कि इस खास रणनीति के तहत योगी मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार को लंबे समय के लिए टाल दिया गया है। शनिवार के दिन लोकसभा चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और सीएम योगी आदित्यनाथ सहित राज्य सरकार में शामिल मंत्रिमंडल के अहम सदस्यों की बैठक हुई। इस बैठक में लोकसभा चुनाव-2019 में 50 फीसदी वोट हासिल करने पर जोरदार चर्चा हुई।

इसके लिए मतदाता सूची में समर्थकों के नाम जोड़वाने, बूथ कमेटियों को मजबूत बनाने तथा अति​शीघ्र सभी 80 सीटों पर प्रभारियों की नियुक्ति का काम पूरा करने का निर्देश दिया गया। बैठक में शामिल एक नेता के अनुसार, फिलहाल योगी मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार की संभावना अभी नहीं के बराबर है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का ध्यान फिलहाल संगठन को मजबूती देने पर है।

इसके लिए बूथ स्तर पर कार्यक्रमों की तैयारी, मतदाता सूची में पार्टी समर्थकों का नाम दर्ज कराने जैसे कामों पर जोर दिया जा रहा है। बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि लोकसभा चुनाव-2019 को ध्यान में रखते हुए योगी सरकार की बेहतरीन योजनाओं के निरंतर प्रचार-प्रसार की व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान रखा जाए।

loading...

Related News