इंग्लैंड टीम के पूर्व कप्तान और ओपनर एलिस्टेयर कुक ने सीरीज के पांचवे और अपने करियर के आखिरी टेस्ट की दूसरी पारी में शतक लगाकर इतिहास रच दिया। इस शतक के साथ कुक अपने करियर के पहले और आखिरी टेस्ट में शतक लगाने वाले 5वें खिलाड़ी बने। इस मैच के बाद संन्यास लेने की घोषणा कर चुके कुक ने कहा कि वे भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का शुक्रिया अदा करना चाहेंगे क्योंकि उनके ओवरथ्रो की वजह से वे अपने करियर की आखिरी पारी में शतक लगा सके।

दरअसल मैच के दौरान जब कुक 96 रन बनाकर खेल रहे तब जडेजा की गेंद को कवर क्षेत्र में एक रन के लिए खेला लेकिन बुमराह द्वारा स्टंप पर तेज थ्रो की वजह से कुक को पांच रन मिले। इसी वजह से कुक बुमराह को इस ओवरथ्रो के लिए बुमराह को धन्यवाद कहना चाहते है।

दिन का खेल समाप्त होने के बाद कुक ने कहा कि मुझे याद है कि कट करके मैं 97 रन के स्कोर पर पहुंचा और तब मुझे शतक के लिए तीन रन और चाहिए थे लेकिन तभी बुमराह ने थ्रो किया जो कि काफी तेज था। कोई भी भारतीय खिलाडी इसके आस पास नहीं था और इस तरह से मेरा शतक आसानी से पूरा हो गया।

बता दें कि कुक ने इस मैच की दूसरी पारी ने 286 गेंदों पर 14 चौकों की मदद से 147 रन बनाये और इस तरह उन्होंने अपने करियर का शानदार अंत किया। आखिरी टेस्ट मैच के चौथे दिन इंग्लैंड की टीम ने 8 विकेट पर 423 रन बनाकर अपनी पारी घोषित की और भारत के सामने जीत के लिए 464 रन का लक्ष्य रखा। दिन का खेल खत्म होने तक भारतीय टीम 58 रन पर अपने तीन विकेट गँवा चुकी है और उसे मैच जीतने के लिए आखिरी दिन 406 रन बनाने होंगे।

loading...

Related News