इंडियन आर्मी, नेवी और एयरफोर्स से जुड़ी रोचक खबरों के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, यह खबर आपको कैसी लगी कमेंट करके हमें बताएं।

दोस्तों, आपको जानकारी के लिए बता दें कि भारत का पड़ोसी देश अब अपनी नापाक हरकतें करने से पहले एक बार नहीं बल्कि हजार बार सोचेगा। क्योंकि हवा से हवा और हवा से जमीन पर मार करने वाले घातक अस्त्र-शस्त्र अब मिनटों में ही दुश्मन की धज्जियां उड़ा देंगे।

जी हां, आपको यह जानकारी होनी चाहिए कि अब भारतीय वायुसेना का रणनीतिक महत्व रखने वाले आदमपुर एयरफोर्स बेस पर अब उन्नत और अपग्रेडेड मिग-29 विमानों की भरपूर तैनाती की गई है। इस एयरबेस की रेंज में पाकिस्तान के सभी एयरफोर्स बेस आ गए हैं।

मिग-29 विमान मैक 2.3 आकाश में 2400 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार से 90 डिग्री के सीधे कोण पर उड़ान भरने वाला दुनिया का सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमान है। इतना ही नहीं एयर-टू-एयर रिफ्यूलिंग तकनीक से लैस आदमपुर एयरफोर्स बेस पर मौजूद मिग-29 लड़ाकू विमानों की जद में पाकिस्तान के तमाम एयरफोर्स आ चुके हैं।

आदमपुर एयरफोर्स बेस पर तैनात मिग-29 विमानों ने कारगिल ऑपरेशन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, यह विमान रात ही नहीं, खराब से खराब मौसम में भी अपने मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम देते हैं। भारतीय वायुसेना के पास 99 फॉल्कन विमान भी हैं, जिन्हें बाज के नाम से भी जाना जाता है।

गरुड़ कमांडोज की तैनाती

एयरफोर्स को ऑपरेशनल सपोर्ट देने के लिए गरुड़ कमांडोज की तैनाती की गई है। ये कमांडो पैराशूट के जरिए छलांग लगाकर जमीन पर उतर सकते हैं, पानी में तैर सकते हैं। गरुड़ कमांडोज के पास इजरायल निर्मित ग्रेनेड लॉन्चर, सेमी स्नाइपर राइफल और एलएमजी जैसे घातक हथियार होते हैं।

ये दुश्मन के इलाके में घुसकर लेजर किरणें फेंकते हैं, जिनसे संकेत पाकर लड़ाकू विमान निर्धारित लक्ष्य पर लेजर गाइडेड बम गिरा कर उन्हें तबाह कर देते हैं। वहीं एयरफोर्स के पास रूस निर्मित पिचौरा मिसाइल सिस्टम भी है, जो दुश्मन के लड़ाकू विमानों अथवा किसी भी आकाशीय हमले को नाकाम कर सकता है।

loading...

Related News