पटवारी एक सरकारी अधिकारी है जो देश के ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि के स्वामित्व के संबंध में रिकॉर्ड रखता है। पटवारी या ग्राम एकाउंटेंट देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में तालाती, पटेल, अधिकारी, पटनायक आदि के रूप में विभिन्न नामों से जाना जाता है।

loading...

क्या करना पड़ता है पटवारी बनने के लिए ?

पटवारी बनने के लिए, उम्मीदवारों को कंप्यूटर की नॉलेज के साथ-साथ किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री रखने की आवश्यकता होती है। पहले, पटवारी बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता 12वीं पास थी।

नॉर्थ इंडिया भीषण सर्दी से परेशान मगर बिहार के इस जिले में चल रही 'लू', डीएम ने दिया स्कूलों को बंद करने का आदेश

इसके अलावा हिंदी टाइपिंग और कंप्यूटर दक्षता के साथ सीपीसीटी स्कोरकार्ड होना भी अनिवार्य है। यदि किसी उम्मीदवार के पास सीपीसीटी स्कोरकार्ड नहीं है, तो वह परीक्षा में चयन होने के बाद 2 साल के भीतर इसे जमा कर सकता है।

उम्मीदवार की उम्र सीमा कम से कम 18 साल होनी चाहिए और अधिकतम उम्र 40 साल है।

पटवारी का पद दो प्रकार का है-

1. राजस्व पटवारी

2. चकबंदी पटवारी।

दिल्ली चुनाव से पहले केजरीवाल से किस बात के 500 करोड़ मांग रहे हैं मनोज तिवारी, जानिए यहाँ

किस तरह की परीक्षा होती है ?

पटवारी बनने के लिए, उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा और इंटरव्यू से गुजरना होगा। परीक्षा 100 अंक होगी जिसमें ऑबजेक्टिव सवाल पूछे जाएंगे जिनके लिए आपको 90 मिनट का समय दिया जाएगा।

लिखित परीक्षा में पांच विषयों से संबंधित सवाल किए जाएंगे जिनमें सामान्य ज्ञान, मात्रात्मक योग्यता, हिंदी भाषा, ग्राम अर्थव्यवस्था और पंचायत प्रणाली और कंप्यूटर शामिल हैं।

कैसे होता है चयन ?

उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा और इंटरव्यू दोनों के लिए तैयारी करनी होगी क्योंकि पटवारी पद के लिए चयन और नियुक्ति दोनों परीक्षाओं, लिखित और इंटरव्यू में प्राप्त अंकों के आधार पर की जाती है।

योग्य उम्मीदवारों को अंतिम नियुक्ति से पहले ट्रेनिंग लेनी होगी जिसके बाद उन्हें पटवारी पद पर पोस्ट किया जाएगा।

पटवारी भर्ती परीक्षा की चयन सूची को 3 साल की अवधि के लिए मान्य माना जाता है और वेंकेसी की उपलब्धता के अनुसार हर साल समय-समय पर पटवारी पदों पर नियुक्ति की जाती है।

Related News